राशन डीलर की दबंगई विधवा महिला ने लगाया मारपीट का आरोप

रुड़की:  एक तरफ जहां कैरोना वायरस की गंभीर बीमारी को लेकर पूरा देश लॉक डाउन है ऐसे में दिहाड़ी मज़दूरों को अपना पेट भरना बेहद मुश्किल हो चुका है, ऐसे में  प्रदेश सरकार भले ही गरीबों के घर घर तक राशन भेजने के लाख दावे करती हो लेकिन सरकार के दावों की राशन डीलरों ने पोल खोल कर रख दी है. 

दो जून की रोटी कमाने वाले अब राशन डीलरों की तरफ बड़ी बेसब्री से ताक रहे है कि कब राशन मिलेगा और कब  उनका चूल्हा जलेगा, लेकिन कुछ दबंग राशन डीलरों पर विभाग और सीएम के आदेशों का भी कोई असर नहीं है।

आलम ये है कि कमेलपुर गांव में एक राशन डीलर ने विधवा महिला को राशन देने से साफ़ इनकार  कर दिया इतना ही नहीं उसका राशनकार्ड तक फाड़ डाला जिससे मौके पर जमकर हंगामा हुआ। आरोप है कि राशन डीलर धीर सिंह और उसके एक बेटे ने महिला और उसके बेटे के साथ भी जमकर मारपीट करते हुए राशन की दुकान से दौड़ा दिया। 

विधवा महिला इमराना किसी तरह रोती बिलखती हुई अपने घर पहुंची और पुलिस को फोन पर पूरी जानकारी दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने राशन डीलर को जमकर फटकार लगाई पुलिस ने महिला के बयानो को दर्ज करते हुए राशन डीलर धीर सिंह को नोटिस भी जारी किया है। 

ग्रामीणों का आरोप है की राशन डीलर अपनी मनमानी के चलते  महिलाओं के साथ अक्सर अभद्र व्यवहार करता है राशन डीलर के दोनों बेटे ग्राहकों के साथ मारपीट पर उतारू हो जाते हैं फिलहाल पुलिस पूरे मामले की जांच  करने में जुटी है। 

ration dealer report

गौरतलब है कि कैरोना वायरस की बीमारी के चलते पूरे देश में लॉक डाउन है ऐसे में निर्धन और बेसहारा लोगों का कारोबार पूरी तरह से ठप हो चुका है अब ये गरीब लोग राशन के लिए अपने राशन डीलर के पास  दिन रात भटक रहे हैं। 


महिला और ग्रामीणों का आरोप है कि राशन में सरकार द्वारा जो चना और मसूर की दाल दी जाती है वो भी गायब  है। मज़दूर लोगों के लिए इस समय को गुज़ारना बेहद मुश्किल है।

Wordpress Social Share Plugin powered by Ultimatelysocial